Saturday, June 29, 2013

Drawing by Akshay Ameria. Mix-media on paper. / 2010

पंचतत्व

मेरी देह से मिट्टी निकाल लो और बंजरों में छिड़क दो
मेरी देह से जल निकाल लो और रेगिस्तान में नहरें बहाओ
मेरी देह से निकाल लो आसमान और बेघरों की छत बनाओ
मेरी देह से निकाल लो हवा और यहूदी कैम्पों की वायु शुद्धकराओ
मेरी देह से आग निकाल लो, तुम्हारा दिल बहुत ठंडा है  

- गीत चतुर्वेदी

No comments:

Post a Comment

Note: Only a member of this blog may post a comment.