Wednesday, November 23, 2011

Thursday, September 15, 2011

Out beyond ideas

Out beyond ideas of wrongdoing and rightdoing,
there is a field. I'll meet you there.
- Rumi

Tuesday, September 13, 2011

This aloneness is worth more than a thousand lives...

This aloneness is worth more than a thousand lives.
This freedom is worth more than all the lands on earth.
To be one with the truth for just a moment,
Is worth more than the world and life itself.
- Rumi

Tuesday, August 16, 2011

ये वक्त की आवाज़ है
मिल के चलो ...
ये जिंदगी का राज है
मिल के चलो ....

Thursday, May 26, 2011

तुम याद बहुत आओगे

कौन, कब, कितना याद आता है इसका आज तक तो कोई बेरोमीटर बना नही है। न ही कोई ऐसा पैमाना है कि जिससे पता चले कि हमने किसी को कितना याद किया। किसी की याद तभी आती है जब वह हमारे पास नहीं होता या हमें यह पता चल जाए कि हम उस अपने से दूर होने वाले हैं।

हम जब किसी अंजान शहर मे जाते हैं। तो भीड़ का हिस्सा बन जाने के बाद भी अलग-थलग से रहते हैं तो इसलिए कि हम जानते हैं कि इस भीड़ में जितने लोग हैं वह सब अंजाने हैं। बस ऐसे ही वक्त में हमें अपनों की याद आती भी है तो कैसे कि उन अपरिचित चेहरों में हम किसी अपने का चेहरा देखने लगते हैं। उस शहर के चौराहों, गलियों में अपने शहर की कोई मिलती-जुलती गली-मकान खोज लेते हैं और इस तरह वह अंजान शहर फिर चाहे वह शिमला हो, गंगानगर, उदयपुर हो या उजैन जाने कब हमारा अपना बन जाता है। पता ही नहीं चलता। अंजाना शहर हम में कितना रच-बस गया है यह भी तब पता चलता है जब अचानक उस शहर को छोड़ने के हालात बन जाएं। सरकारी नौकरी में तबादले का दर्द सहने वाले कर्मचारी वर्ग से कौन यादा समझ सकता है अपने शहर को छोड़ने और किसी भी अंजाने शहर से जुड़ी अपनी यादों का आइना टूटने का दर्द।
शिमला की ही बात करें तो यहां का मौसम, देवदार-चीड़ के दरख्त कहां भुलाए जा सकते हैं। संघर्षों के बीच दाना-पानी के लिए संघर्ष करते बन्दर और बाकी पशु-पक्षी, संकरे रास्तों और उंचाई पर बने मकानों तक के सफर को आसान बनाते कुली(खान), चाहे जितने तनाव में भी पेशेंस नहीं खोने वाले आम लोग, बर्फीले मौसम में भी अपने दायित्व आसानी से पूरे करने वाले होकर, डाककर्मी, यादा की चाहत नहीं और जो है उसमें खुश रहने के आध्यात्म को दर्शाते लोग ये सब बताते हैं कि पहाड़ों की इस चुनौतीपूर्ण जिन्दगी को आसानी से भुलाया नहीं जा सकता।
पहाड़ों के शिखर पर इठलाते, आसमान छूने की कोशिश करते नजर आने वाले देवदार क्या भुलाए जा सकते हैं। जाने क्यों मुझे ये ऊंचे-ऊंचे दरख्त अहसास कराते हैं कि जीवन में कुछ पाने, ऊंचा उठने के लिए संघर्ष के सफर वाले रास्ते पर चलना है तो पीछे काफी कुछ छोड़ते हुए चलना पडेग़ा। देवदार बताते हैं कि जो उंचा उठते हैं उन्हें कई तरह के त्याग करने पड़ते हैं। देवदार जैसे खड़ा सौ साल का और आड़ा भी इतने ही साल का तो जो ऊंचा उठने की चाहत रखते हैं वे सब भी अपना नाम-काम इतने वर्षों तक तभी बनाए रख सकते हैं जब वे देवदार-चीड़ जैसे वृक्षों की तरह हर हाल में अपना वजूद बनाएं रखने को तत्पर रहना सीख लें।
कोई भी अंजान शहर, अपरिचित लोग आप के तभी हो सकते हैं जब आप इन सब से तालमेल बैठाना सीख लें। आप जिस शहर में जाएं उस के प्रति एहसानमंद ना हो अपने शहर और अपने लोगों का ही गुणगान करते ना थके तो यह उस शहर के प्रति नाइंसाफी ही होगी। ऐसी तो बहू भी अपने ससुराल में कभी किसी का दिल नहीं जीत पाएगी जो रहे तो ससुराल मे लेकिन बात-बात मे मायके का जिक्र करना नहीं भूले। जीवन के किसी भी क्षेत्र में उपलब्धियों वाली मंजिल तक तभी पहुंचा जा सकता है जब उस काम के प्रति शतप्रतिशत समर्पण वाला भाव हो। यानी अंजान शहर, वहां के लोगों को आप अपना तभी बना सकते हैं जब वहां के रंग-ढंग मे ढलना भी सीख लें। ऐसा होने पर ही पता चल सकता है कि कल तक जो शहर, जो लोग अपरिचित से थे वह सब तो अपने से हो गए हैं। यह अपना सा लगने का भाव ही शहर छोड़ते वक्त तुम्हे कैसे भुलाऊं की पीड़ा मे बदल जाता है।

Thursday, May 12, 2011

सीखने की कोई उम्र नहीं होती

हर दम सीखने की आतुरता से मिलने वाली सफलता और ना सीखने के लिए दिमाग के दरवाजे बंद रखने का दर्द वही जान सकता है जो इन दोनों में से किसी एक हालात से गुजरा हो। यदि हम मान कर चलें कि हमें तो सब आता ही है, अब क्या जरूरत है सीखने कि तो नुकसान हमारा ही होगा। हम टायपिंग में माहिर हों और कम्प्युटर की वर्किंग ना जानते हो, कम्प्युटर के जानकार हों और गूगल, नेट, इमेल आदि की जानकारी ना रखते हों तो हाथ आए अवसर भी फिसल जाते हैं क्योंकि कोई दूसरा हम से ज्यादा जानता है। अवसर ना तो बार-बार आते हैं और ना ही समय हमारा इंतजार करता है। समय के साथ चलना है तो उसके मुताबिक ढलना होगा, यह आसान सी बात जो समझ लेते हैं उन्हें किसी भी क्षेत्र में परेशानी नहीं आती।

कमरे में बड़े तैश से प्रवेश किया उस युवक ने और बिना आगा-पीछा सोचे अपना निर्णय सुना दिया कि अब वह काम नहीं करेगा। टेबल की दूसरी तरफ बैठे उसके बॉस ने कारण पूछा तो उसका जवाब था मेरे ढाई-तीन साल के कॅरिअर में यह पहला अवसर है जब काम को लेकर उसे इस तरह जलील किया गया। इस सारे घटनाक्रम के दौरान मेरा मूकदर्शक बने रहना इसलिए भी जरूरी था कि यह उन लोगों के बीच का आंतरिक मामला था।
अब बॉस उस युवक से पूछ रहे थे कि तुम्हें किसी निजी काम के लिए फ़टकार लगाई या सौंपे गए काम में कोताही बरतने के लिए? उस सहकर्मी के तेवर यही थे कि आप ने मेरी बात सुनी नहीं और बेवजह डांटा। बॉस ने पूछा तुम्हें जो निर्देश दिए गए थे, क्या उस प्लानिंग के मुताबिक अपने काम को अंजाम दिया? इस प्रश्न का जवाब देने की अपेक्षा वह मुझे अब काम नहीं करना कहते हुए उठ कर चला गया।
संस्थान के बॉस ने मुझे जो बताया वह यह कि उसे काम सौंपते वक्त ही बता दिया गया था कि इसे कैसे किया जाए। यही नहीं वर्क प्रोग्रेस को लेकर फालोअप भी किया गया। इस सब के बाद भी उसने जो फायनल रिपोर्ट तैयार की उसमें वही सारी गलतियां की जिसके लिए उसे सतर्क किया
गया था।
एक तरफ तो हम यह मानते हैं कि पूरी उम्र सीखा जा सकता है। यानी सिर्फ कॉलेज की पढ़ाई पूरी करने या डिग्री लेने से ही सीखने की सीमा समाप्त होना नहीं है। आप जिस भी फील्ड में हंै वहां हर दिन, हर पल अपने सहकर्मी, अपने दोस्तों, अपने दुश्मनों से कुछ ना कुछ तो सीख ही सकते हैं। अपने सहकर्मी से सीख सकते हंै कि काम को लेकर उसमे कोई कमी हो तो हम उस आधार पर अपनी कमियां दूर कर ले। दोस्त से सीख सकते है कि वह किन अच्छाइयों के कारण पहचाना
जाता है, वह सारी बातें हम भी अपना सकते हैं। इसी तरह दुश्मन की कमजोरी जान-पहचान
कर हम उसे आसानी से शिकस्त देना सीख
सकते है।
यह सीखने की प्रवृति तभी आएगी जब हम दिलो दिमाग से तैयार भी रहें। रोज तकनीक में हो रहे परिवर्तन, तेजी से बदलते जमाने के मुताबिक हम खुद को बदलाव के लिए तैयार ना रखें, खुद को अपडेट भी ना रखें तो इसमें नुकसान भी हमारा
ही है।
कई बार हम यह भ्रम पाल लेते हैं कि संस्थान में हम सबसे पुराने कर्मचारी हैं तो हमें तो सब कुछ आता ही है। इसी तरह गोल्ड मेडल प्राप्त, सर्वाधिक अंकों से परीक्षा उत्तीर्ण करने वाला छात्र भी यह मान लेता है कि उसे तो सब आता ही है। यूनिवर्सिटी के मास कम्यूनिकेशन डिपार्टमेंट से 3 या 6 महीने के ट्रेनिंग पीरियड पर अखबारों में काम समझने के लिए आने वाले छात्रों को कुछ दिनों तक बड़ा अटपटा लगता है क्योंकि जिस यूनिवर्सिटी से वो डिप्लोमा/डिग्री कोर्स कर रहे होते हैं वहा उन्हें किताबी ज्ञान तो भरपूर मिलता है लेकिन अखबारों में होने वाले रूटीन वर्क या फील्ड वर्किंग की जानकारी नहीं होती। ट्रेनिंग पीरियड के दौरान ये छात्र सब कुछ जाने-समझने के साथ ही अपने नोलेज को अपडेट भी करते चलते हैं।
घर की सुन्दरता बढ़ाने वाले फिशपॉट की मछलियों को तेज बहाव वाली नदियों में छोड़ दिया जाए तो वह खुद को सुरक्षित रखते हुए तैर लेती हैं लेकिन कुएं के मेंढ़क को किसी बड़ी नदी में काफी संघर्ष इसलिए करना पड़ता है कि इससे पहले तक उसे कुआं ही समुद्र नजर आता था। जब हम यह याद रखते हैं कि जीवन में हर पल किसी ना किसी से कुछ ना कुछ सीखा जा सकता है तो हमें विपरीत परिस्तिथियों में भी सब कुछ आसान लगता है। पर यदि ऐसा ना करें तो यह भी समझ नहीं आता कि कल तक जो हमारे साथ थे वे सब आगे बढ़ते गए और हम वहीं के वहीं कदमताल क्यों कर रहे हैं।

Tuesday, May 3, 2011

Innerscapes


देवयोग की निरुद्देश्य ईंटों से इस जगत का निर्माण नहीं हुआ है

एक अंधा देवता भाग्य का सृजनहार नहीं है

एक चित्तशक्ति ने जीवन की योजना का चित्र आंका है

जिसकी प्रत्येक रेखा और घुमाव में एक अर्थ छुपा है.

यह एक अति भव्य और उदात्त वास्तुकला है

जिसे अनेक नामी और बेनामी वास्तुकारों ने निभाया है

-श्रीअरविंद सावित्री

Thursday, April 28, 2011


 
हाँ..कुछ ना कुछ तो है
क्या है..,
क्यूँ है..,
कैसा है...
जानना भी नहीं चाहता
 
बस..
कुछ तो है...
ये एहसास ही काफी है
 
अब कहने को कोई भी नाम दे दो
क्या फर्क पड़ता है..
कुल जमा हासिल बस ये
की
कुछ तो है...